वाराणसी: BHU विवाद पर मोदी-शाह ने योगी से की बात, 1000 स्टूडेंट्स पर FIR दर्ज !

वाराणसी| बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी (बीएचयू) में मचे बवाल को लेकर नरेंद्र मोदी और अमित शाह ने योगी आदित्यनाथ से बात की है। न्यूज एजेंसी के मुताबिक, नितिन गडकरी ने यह जानकारी दी है। इससे पहले शनिवार रात स्टूडेंट्स पर हुए लाठीचार्ज के मामले में पहली कार्रवाई हुई। लंका इलाके के थाना प्रभारी (एसओ) को लाइन अटैच कर दिया गया। भेलूपुर के सर्कल ऑफिसर (सीओ) निवेश कटियार को भी उनके पद से हटा दिया गया। जैतपुरा के एसओ संजीव मिश्रा को लंका इलाके का नया एसओ बनाया गया है। इतना ही नहीं, वाराणसी के एडिशनल सिटी मजिस्ट्रेट सुशील कुमार गोंड को भी हटा दिया गया है। इस मामले में यूनिवर्सिटी के 1000 स्टूडेंट्स पर आगजनी और अन्य आरोपों में एफआईआर दर्ज की गई है।
एडीजी और कमिश्नर से मांगी गई ज्वाइंट रिपोर्ट…
– चीफ सेक्रेटरी राजीव कुमार ने शनिवार रात बीएचयू में हुए लाठीचार्ज की घटना की जांच का आदेश दिया है। उन्होंने कमिश्नर नितिन रमेश गोकर्ण और वाराणसी रेंज के एडीजी विश्वजीत महापात्रा को ज्वाइंट रिपोर्ट पेश करने को कहा है।
– कमिश्नर नितिन रमेश गोकर्ण ने कहा, “सोमवार को बीएचयू में हुई घटना की सुनवाई करेंगे। इस दौरान एडीजी विश्वजीत महापात्रा भी मौजूद रहेंगे।”
– “किसी के पास घटना से संबंधित कोई भी फैक्ट हो तो वह पेश कर सकता है।”
– इस बीच, कलेक्टर योगेश्वर राम मिश्रा ने बीएचयू रजिस्ट्रार को लेटर जारी किया है। इसमें कैम्पस में जल्द से जल्द लेडी सिक्युरिटी गार्ड्स और सीसीटीवी का इंतजाम करने को कहा गया है।
ऐसे हुई घटना की शुरुआत
– आरोप है कि गुरुवार (21 सितंबर) रात बीएचयू कैम्पस में भारत कला भवन के पास आर्ट्स फैकल्टी की एक गर्ल स्टूडेंट के साथ तीन लड़कों ने छेड़छाड़ की थी। शोर मचाने पर भी 20 मीटर दूर खड़े सिक्युरिटी गार्ड्स ने कोई मदद नहीं की। विक्टिम ने हॉस्टल में आकर वार्डन से शिकायत की। चीफ प्रॉक्टर को भी सूचना दी। इसके बाद भी कोई एक्शन नहीं लिया गया।
– बीएचयू की गर्ल्स स्टूडेंट्स 22 सितंबर को सुबह इस घटना के विरोध में बीएचयू के मेन गेट पर प्रोटेस्ट करने पहुंचीं।
– शनिवार-रविवार की रात अचानक स्टूडेंट्स पर पुलिस लाठीचार्ज के बाद हालात बिगड़ गए। अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे यूनिवर्सिटी के लड़के-लड़कियों ने पुलिस पर पथराव कर दिया और टू-व्हीलर्स फूंक दिए।
– मामला बढ़ने पर पुलिस फोर्स बीएचयू कैम्पस में घुस गई और हंगामा कर रहे स्टूडेंट्स को आने से रोका। वहीं, उपद्रव कर रहे स्टूडेंट्स को खदेड़ने के लिए पुलिस की ओर से हवाई फायरिंग की गई। लाठीचार्ज और भगदड़ में तीन स्टूडेंट जख्मी हुए हैं। फिलहाल बीएचयू छावनी में तब्दील हो गया है। यूनिवर्सिटी में 2 अक्टूबर तक छुट्टी कर दी गई है।
वीसी ने कहा- हाई लेवल कमेटी देगी एक हफ्ते में रिपोर्ट
– बीएचयू के वाइस चांसलर (वीसी) जीसी त्रिपाठी ने मामले की नैतिक जिम्मेदारी ली है। उन्होंने कहा, “मैं छात्राओं के प्रोटेस्ट में जाकर उनसे मिलना चाहता था। मुझे पता चला कि वहां महामना (मदनमोहन मालवीय) का अपमान हो रहा है और बाहरी लोग धरना-प्रदर्शन में शामिल हैं। इसलिए मैं वहां नहीं गया। हमने इस घटना की जांच के लिए हाई लेवल कमेटी बनाई है, जो इसकी पूरी रिपोर्ट एक हफ्ते में देगी।”
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

पटना: अकेली महिला से जबरदस्ती की कोशिश, सफल नहीं हुए तो बॉडी में डाल दिया रॉड !

पटना| पटना जिले के नौबतपुर में घर से बाहर निकली महिला को गांव के दो युवकों ...

error: Content is protected !!